Saturday, May 25, 2024
HomeVastuDiwali Vastu Tips- दिवाली की रंगोली और वास्तु में क्या रिश्ता है...

Diwali Vastu Tips- दिवाली की रंगोली और वास्तु में क्या रिश्ता है ?

Diwali Vastu Tips-दिवाली की रंगोली और वास्तु में क्या रिश्ता है दिवाली का त्योहार आ गया है और इन दिनों हर घर में देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए रंगोली बनाई जाती है। आइए यहां जानते हैं कि अपने घर के आंगन में वास्तु के अनुसार रंगोली कैसे बनाई जाती है ताकि हमारा जीवन सुख-समृद्धि से भर जाए। आइए जानते हैं कि रंगोली यानी रंगोली और वास्तु (रंगोली n वास्तु शास्त्र) का क्या संबंध दिशाओं के अनुसार कहता है-

Diwali Vastu Tips-दिवाली की रंगोली की दिशा क्या होती है ?

पूर्व दिशा: इस दिशा में एक अंडाकार रंगोली बनाएं। पूर्व दिशा में बनी अंडाकार रंगोली की डिजाइन आपके जीवन में सुख-समृद्धि और व्यापार में उन्नति में सहायक सिद्ध होती है।पूर्व दिशा में रंगोली बनाने के लिए नारंगी, नीला, मैरून, हरा, गुलाबी, भूरा आदि जैसे आशावादी रंगों का प्रयोग करें। इस दिशा में रंगोली बनाने के लिए रंगों का चयन करते समय विशेष रूप से ध्यान रखें कि इसमें सुनहरा रंग न हो। यहां रंगोली बनाते समय सुनहरे रंग का प्रयोग करने से सामाजिक गतिविधियों में बाधा आ सकती है। पूर्व दिशा में गोल घेरे में रंगोली न बनाएं।

लाभ : अंडाकार रंगोली बनाकर इस दिशा में ओशियस रंग का प्रयोग करने से आपके घर और कार्यालय में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है, मान-सम्मान में वृद्धि होती है। बड़े व्यापारिक संबंध बनते हैं। परिवार में प्रेम और सौहार्द की भावना बढ़ती है।

दिवाली की रंगोली की पश्चिम दिशा: बेहतर प्रभाव के लिए आप यहां रंगोली बनाने के लिए विशेष रूप से सुनहरे और सफेद रंगों का उपयोग कर सकते हैं। इनके अलावा आप अपनी पसंद के अन्य रंग भी चुन सकते हैं जैसे लाल, पीला, हरा आदि। पश्चिम दिशा में रंगोली बनाने के लिए काले रंग के संयोजन से बचें।
यहां एक गोलाकार रंगोली बनाएं। यहां रंगोली बनाते समय गोलाकार और आयताकार को मिलाकर रंगोली न बनाएं, अगर आपकी दिली इच्छा है कि आप दो आकृतियों को मिलाकर रंगोली बना सकते हैं, तो आप यहां पंचकर रंगोली बना सकते हैं.

लाभ: कर्म शक्ति में वृद्धि होती है, जिसकी मदद से आप अपने व्यवसाय में प्रगति कर सकते हैं। नई सफलता पाएं।

उत्तर दिशा: इस दिशा में लहराती या लहराती हुई रंगोली बनाएं। उत्तर दिशा में रंगोली बनाने के लिए जैसे पीले, हरे, नीले आदि का प्रयोग करें। यहां रंगोली बनाने के लिए बैंगनी, लाल, नारंगी, बैंगनी आदि अग्नि तत्वों से संबंधित रंगों का प्रयोग न करें। यहां त्रिकोणीय रंगोली बनाने से बचें।

लाभ: उत्तर दिशा धन के देवता कुबेर का क्षेत्र है। सही आकार और सही रंग की रंगोली बनाकर आप अपने जीवन में नए अवसर और धन को आकर्षित करेंगे। लेहरिया के आकार की उत्तर-पूर्व में रंगोली बनाने से सोच में स्पष्टता आती है, जिससे प्रगति के नए अवसर मिलते हैं।

दक्षिण दिशा: यहां एक आयताकार रंगोली बनाएं। नीले रंग का प्रयोग न करें। यहां आप रंगोली बनाने के लिए नीले रंग के अलावा अपनी पसंद का कोई भी रंग चुन सकते हैं। दक्षिण दिशा में रंगोली को लहर के आकार का बनाने से बचें।

लाभ: मान-प्रतिष्ठा और आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। निर्णय लेने की क्षमता में वृद्धि होती है, जिसकी मदद से आप किसी भी काम को सही समय और सही समय पर करने का निर्णय लेकर अपने जीवन में धन और समृद्धि को आकर्षित कर सकते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments