Monday, July 22, 2024
HomeDevi Devta10 Big Differences Between Ramayana and Mahabharata | Exclusive With Us

10 Big Differences Between Ramayana and Mahabharata | Exclusive With Us

10 Big Differences Between Ramayana and Mahabharata: हम सभी लोगों ने पुस्तकों और बड़े-बुडों, महात्मा वाल्मीकि द्वारा रचित श्री रामायण और महर्षि वेदव्यास द्वारा रचित महाभारत की पूरी कहानी सुनी या पढ़ी होगी | लेकिन इन दोनों महाग्रंथो में बहुत गहरे और बड़े अंतर है…. तो आइए जानते है क्या हैं वे विभिन्नताएं….

ये 10 बड़े अंतर हैं रामायण और महाभारत “Ramayana and Mahabharata” में….
हलांकि आप सभी जानते हो कि रामायण काल और महाभारत काल के हजारों वर्षों के अंतराल है | श्री रामकथा को महर्षि वाल्मीकि ने लिखा और महाभारत को महर्षि वेदव्यास ने लिखा | रामायण में 24,000 छंद शामिल हैं, जबकि महाभारत को अब तक की सबसे लंबी ग्रन्थ माना जाता है, और इसमें लगभग 100,000 छंद शामिल हैं | रामायण और महाभारत की घटनाओं की 10 आश्चर्यजनक समानताएं हैं लेकिन अब जानिए आप दोनों में 10 अंतर |

रामायण और महाभारत “Ramayana and Mahabharata” में सब से बड़ी विभिन्नता ये हें की जब एक भाई ने दुसरे भाई के लिये अपना राज छोड़ दीया तब रामायण हुए थी और जब एक भाई दुसरे भाई का राज्य हड़पना लेना चाहता था तब महाभारत हुई थी|

10 Big Differences Between Ramayana and Mahabharata

1. Ramayana and Mahabharata: रामायण काल का युद्ध एक पवित्र स्त्री के लिए लड़ा गया जबकि महाभारत का युद्ध राज्य के बंटवारे के लिए लड़ा गया था | राम का रावण के साथ युद्ध करना एक नियति द्वारा निर्धारित घटना थी जबकि कौरवों और पाण्डवों का युद्ध पारस्परिक द्वेष और ईर्ष्या के कारण हुआ |

2. Ramayana and Mahabharata: रामायण के युद्ध की समाप्ति के बाद रावण के भाई विभीषण को लंका का राजा माना जाता है, श्रीराम का राज्याभिषेक होता है और लव एवं कुश की कथा तभी शुरु होती है, जबकि महाभारत के युद्ध के अंत के बाद और फिर यदुवंशियों के नाश के बाद सभी पांडव स्वर्ग चले जाते हैं | श्री राम अंततः अपने अवतार को पूरा करने के लिए सरयू नदी में प्रवेश करते हैं, जबकि पांडव जहां स्वर्ग चले जाते हैं वहीं श्रीकृष्ण का एक तीर लगने से निर्वाण हो जाता है |

3. Ramayana and Mahabharata: रामायण में प्रभु श्रीराम को महान अवतार के बजाया मर्यादा पुरुषोत्तम के रूप में चित्रित किया गया जबकि श्रीकृष्ण को महाभारत में भगवान के अवतार के रूप में चित्रित किया गया |

4. Ramayana and Mahabharata: रामायण की कथा में त्याग, नीति और सपर्पण को बताया गया है जबकि महाभारत की कथा में शक्ति, अधिकार और ज्ञान को बताया गया है। और सबसे बड़ा अंतर ये है कि रामायण में हर कोई सिंहासन त्यागना चाहता है जबकि महाभारत में हर कोई सिंहासन पर बैठना चाहता है |

5. Ramayana and Mahabharata: रामायण में केवल श्रीराम और उनके परिवार का चरित्र चित्रण है जबकि महाभारत में एक राज परिवार सहित कई लोगों का चरित्र चित्रण और कहानियां हैं | महाभारत के हर पात्र की अपनी एक अलग ही गाथा है | इसके अलावा महभारत में अनेक उपाख्यान भी भरे पड़े हैं | रामायण का नायक एक ही है जबकि महाभारत में मुख्य पात्रों के बीच में किसी एक का नायक के रूप में चयन करना मुश्‍किल है |

6. Ramayana and Mahabharata: रामायण में केवल राम और रावण की सेना का युद्ध था जबकि महाभारत में कौरव एवं पांडवों की सेना के साथ कई सेनाओं ने युद्ध लड़ा था । यह विश्‍व युद्ध जैसा ही एक था | एक युद्ध लंका में लड़ा गया और दूसरा युद्ध कुरुक्षेत्र में |

7. Ramayana and Mahabharata: रामायण की शैली में एकरूपता है और महाभारत में भिन्न-भिन्न तरह की शैली दिखाई गई है | रामायण की भाषा कलात्मक, परिष्कृत, अलंकृत है, जबकि महाभारत की भाषा प्रभावशाली एवं ओजयुक्त है | रामायण को वाल्मीकि के अलावा आचार्य तुलसीदास जैसे कई विद्वानों ने लिखा लेकिन महाभारत को वेदव्यास जी द्वारा ही लिखा गया है | रामकथा को हजारों तरीके से लिखा, पढ़ा और सुनाया गया लेकिन महाभारत को नहीं |

8. Ramayana and Mahabharata: रामायण में नीति तो है लेकिन महाभारत के गीता जैसा उपदेश नहीं | युद्ध के क्षेत्र में गीता का संदेश महाभारत का ही एक चमत्कार है | इसके बावजूद रामायण में जीवन का सार छुपा हुआ है, क्योंकि इसमें श्रीराम का जीवन ही गीता के समान है |

9. Ramayana and Mahabharata: रामायण में धर्म प्रधान तत्व है जबकि महाभारत में कर्म और शौर्य प्रधान तत्व है | रामायण में सदाचार और नैतिकता विस्तृत रूप से वर्णित है | जबकि महाभारत में राजनीति और कूटनीति की प्रधानता स्पष्ट रूप से दिखाई गई है | एक बार अरुण गोविल ने कहा था कि रामायण हमें सिखाता है कि क्या करना चाहिए और महाभारत हमें सिखाता है कि क्या नहीं करना चाहिए |

10. Ramayana and Mahabharata: रामायण में दक्षिण भारत को एक विशाल जंगल की तरह चित्रित किया गया है, जहां वानर, भालू और रीछ जैसे हिंसक पशु तथा विराध व कबंध जैसे राक्षस रहते थे | महाभारत में दक्षिण भारत के चित्रण किंचित मात्र है|

For More Updates follow us on Instagram and Subscribe to us on YouTube

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments