Saturday, May 25, 2024
HomeAstrologyWhat Is Vedic Astrology-वैदिक ज्योतिष क्या है ?

What Is Vedic Astrology-वैदिक ज्योतिष क्या है ?

What Is Vedic Astrology-वैदिक ज्योतिष क्या होता है आखिर वैदिक से आप अपना भविष्य को जान सकते है वैदिक ज्योतिष हमारे देश भारत के साथ यूनान,मिस्र,चीन और भी कई देशों में मानी जाती है और इन जैसे देशों में विद्वान ने ग्रहों और तारों के समूह के रंग और प्रकाश आदि की गति से पड़ने वाले प्रभाव का काफी प्रमानिंक अध्यन किया है गणित का विकास भी इसी के अध्यन के दौरान हुआ है माना जाता है खगोल विद्या का विकास भी इसी दौरान हुआ है अब हम सवाल और जवाब की और चलते है |

What Is Vedic Astrology And Its Myths ?

सवाल-वैदिक ज्योतिष में किन चीजों का अध्यन होता है ?
जवाब-वैदिक ज्योतिष में तारों और ग्रहों के प्रभाव का अध्यन होता है.

सवाल-वैदिक ज्योतिष के अनुसार गृह हम पर अपना असर क्यों करते है ?
जवाब-पृथ्वी सौर मंडल का एक तरह का ग्रह है इसी कारण इसके निवासियों पर सूर्य और सौर मंडल से प्रभाव पड़ता है

सवाल-सूर्य चलता हुआ क्यों दिखाई देता है ?
जवाब-पृथ्वी एक विशेष कक्षा में चलायमान है। पृथ्वी पर रहने वालों को सूर्य इसी में गतिशील नजर आता है।

सवाल-नक्षत्र क्या होते है और यह कितने प्रकार के होते है ?
जवाब-सौर कक्षा के आस पास तारों के समूह को नक्षत्र कहा जाता है और यह 27 तारों के समूह यानी नक्षत्र 12 होते है.

What Is Vedic Astrology Planets ?

सवाल-वैदिक ज्योतिष में गृह और उनके बारे में बताये ?

ग्रहEnglish nameलिंगविम्शोतरी दशा(वर्ष)
सूर्यSunपुर्लिंग6
चंद्रMoonस्त्रीलिंग10
मंगलMarsपुर्लिंग7
बुधMercuryनपुंसक17
बृहस्पतिJupiterपुर्लिंग16
शुक्रVenusस्त्रीलिंग20
शनिSaturnपुर्लिंग19
राहुDragon’s Headपुर्लिंग18
केतुDragon’s Tailपुर्लिंग17

What Is Vedic Astrology Hidden Facts ?

राहु एवं केतु वास्तविक ग्रह नहीं हैं, इन्हें छायाग्रह माना गया है।

ग्रहों की आपसी मित्रता-शत्रुता इस प्रकार है…

ग्रहमित्रशत्रुसम
सूर्यचंद्र, मंगल, गुरुशुक्र, शनिबुध
चंद्रसूर्य, बुधमंगल, गुरु, शुक्र, शनि
मंगलसूर्य, चंद्र, गुरुबुधशुक्र, शनि
बुधसूर्य, शुक्रचंद्रमंगल, गुरु, शनि
गुरुसूर्य, चंद्र, मंगलबुध, शुक्रशनि
शुक्रबुध, शनिसूर्य, चंद्र, मंगलगुरु
शनिबुध, शुक्रसूर्य, चंद्रमंगल, गुरु

What Is Vedic Astrology

राशियों का स्वभाव और उनका स्वामी…

राशिEnglish Nameस्वभावराशि स्वामी
मेषAriesचरमंगल
वृषभTaurusस्थिरशुक्र
मिथुनGeminiदुईस्वभावबुध
कर्कCancerचरचंद्र
सिंहLeoस्थिरसूर्य
कन्याVirgoदुईस्वभावबुध
तुलाLibraचरशुक्र
वृश्चिकScorpioस्थिरमंगल
धनुSagittariusदुईस्वभावगुरु
मकरCapricornचरशनि
कुंभAquariusस्थिरशनि
मीनPiscesदुईस्वभावगुरु

यदि 360 डिग्री को 12 से विभआजित किया जाए तो एक राशि 30 डिग्री की होती है।

#नक्षत्रनक्षत्र स्वामीपद 1पद 2पद 3पद 4
1अश्विनीकेतुचुचेचोला
2भरणीशुक्रलीलूलेपो
3कृत्तिकासूर्य
4रोहिणीचंद्रवावीवु
5मृगशीर्षामंगलवेवोकाकी
6आर्द्राराहुकुड.
7पुनर्वसुगुरुकेकोहाही
8पुष्यशनिहुहेहो
9अश्लेषाबुधडीडूडेडो
10मघाकेतुमामीमूमे
11पूर्बा फाल्गुनीशुक्रनीटाटीटू
12उत्तर फाल्गुनीसूर्यटेटेपापी
13हस्तचंद्रपू
14चित्रामंगलपेपोरारी
15स्वातिराहुरूरेरोता
16विशाखागुरुतीतूतेतो
17अनुराधाशनिनानीनूने
18ज्येष्ठाबुधनोयायीयू
19मूलाकेतुयेयोभाभी
20पूर्वाषाढ़ाशुक्रभूधाफाढा
21उत्तराषाढ़ासूर्यभेभोजाजी
22श्रवणचंद्रखीखूखेखो
23धनष्ठामंगलगागीगुगे
24शतभिषाराहुगोसासीसू
25पूर्वाभाद्रप्रदागुरुसेसोदादी
26उत्तराभाद्रप्रदाशनिदू
27रेवतीबुधदेदोची

यदि 360 डिग्री को 27 से विभाजित किया जाए तो एक नक्षत्र 13 डिग्री 20(13 डिग्री 20 मिनट) का होता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments