Saturday, July 20, 2024
HomeAstrologyGrah Gochar and Health-यह ग्रह देते हैं भयंकर रोग, पढ़ें रहस्य

Grah Gochar and Health-यह ग्रह देते हैं भयंकर रोग, पढ़ें रहस्य

Grah Gochar and Health आइये जानते है आखिर किस गृह से यह होता है ?

ज्योतिष में विश्वास रखने वाले वैदिक शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि ज्योतिष के अनुसार व्यक्ति के शरीर का संचालन भी ग्रहों के अनुसार होता है। सूर्य नेत्र, चंद्र मन, मंगल रक्त परिसंचरण, बुध हृदय, बृहस्पति बुद्धि, शुक्र प्रत्येक रस और शनि, राहु और केतु पेट का स्वामी है।

Grah Gochar and Health-शनि बली हो तो नौकरी और व्यापार में विशेष लाभ होता है। गृहस्थ जीवन सुचारू रूप से चलता है। लेकिन यदि शनि का प्रकोप हो तो जातक इस बात पर क्रोधित हो जाता है। निर्णय शक्ति से काम नहीं चलता, घर में कलह और व्यापार में विनाश होता है।

आजकल वैदिक शोध में जाप और ग्रहों की स्थिति के अनुकूल होने से जाप के हानिकारक प्रभावों से व्यक्ति की रक्षा के लिए शोध कार्य चल रहा है। कई वैदिक वैज्ञानिक कर्म में विश्वास करते हैं, लेकिन पर्याप्त कर्म के बाद भी वांछित परिणाम नहीं मिलने पर, वे इसे ग्रहों का हानिकारक प्रभाव मानते हैं। ये ना केवल घरेलू परेशानियों, संपत्ति विवाद, व्यापार और नौकरी में बाधाओं को दूर करने का दावा करते हैं, बल्कि जप से रक्तचाप, कफ, खांसी और चेहरे की झाइयां भी दूर होती हैं।

Grah Gochar and Health

सूर्य: सूर्य पृथ्वी का जीवनदाता है, लेकिन क्रूर ग्रह है, यह मानव स्वभाव को गति देता है। जब यह ग्रह कमजोर होता है तो सिरदर्द, नेत्र रोग और टाइफाइड आदि रोग होते हैं। लेकिन सूर्य उच्च राशि में हो तो शक्ति सुख, सामग्री और धन देती है। यदि सूर्य के गलत प्रभाव सामने आ रहे हैं तो सूर्य के दिन यानी रविवार का व्रत और माणिक्य, लालदी ताम्र या महसूरी रत्न धारण कर सकते हैं।

सूर्य को अनुकूल बनाने के लिए एक लाख 47 हजार बार मंत्र का जाप करना चाहिए -‘ॐ हाम्‌ हौम्‌ सः सूर्याय नमः’। धीरे-धीरे यह पाठ कई दिनों में पूरा किया जा सकता है। Grah Gochar and Health-

चंद्रमा: चंद्रमा एक शुभ ग्रह है लेकिन इसका फल भी अशुभ होता है। चंद्रमा उच्च का हो तो व्यक्ति को अपार यश और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है, लेकिन नीच का हो तो व्यक्ति खांसी, जी मिचलाना, सर्दी जैसे रोगों से घिरा रहता है। चंद्रमा के प्रभाव को अनुकूल बनाने के लिए सोमवार का व्रत और सफेद खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। पुखराज और मोती धारण कर सकते हैं। ‘ॐ श्राम्‌ श्रीम्‌ श्रौम्‌ सः चंद्राय नमः’ का 2 लाख 31 हजार बार जाप करना चाहिए।

मंगल: यह एक शक्तिशाली ग्रह है। कर्क, वृश्चिक, मीन तीनों राशियों पर उनका अधिकार है। यह लड़ाई-झगड़ा दंगों का प्रेरक है। यह पित्त, वायु, रक्तचाप, कान के रोग, खुजली, पेट, राज, बवासीर आदि रोगों का कारण बनता है। यदि कुंडली में मंगल नीच का हो तो विनाश का कारण बनता है।

Grah Gochar and Health प्रमुख दुर्घटनाएं, भूकंप, सूखा भी मंगल के अशुभ प्रभावों का प्रतीक माना जाता है, लेकिन यदि मंगल उच्च का हो तो वह व्यक्ति सेक्स में चंचल, तमोगुणी और व्यक्तित्व का धनी होता है। वे अथाह संपत्ति भी खरीदते हैं। मंगल के प्रभाव को अनुकूल बनाने के लिए मूंगा धारण किया जा सकता है। तांबे के बर्तन में खाने-पीने की चीजों का दान करना और ‘ॐ क्रम्‌ क्रीम्‌ क्रौम सः भौमाय नमः’ मंत्र का 2 लाख 10 हजार बार जाप करना लाभकारी हो सकता है।

प्रत्येक ग्रह जिस अंग का प्रतिनिधित्व करता है, उसके अनुसार रोग होते हैं, क्योंकि शुक्र सेक्स का प्रतीक है, तो सभी यौन रोग शुक्र की अशुभता के कारण होते हैं। बुध की अशुभता हृदय रोग देती है। बृहस्पति बुद्धि से संबंधित परेशानी देता है। शनि, राहु और केतु उदर के स्वामी हैं, इसलिए इनके अशुभ होने से पेट के विकार होते हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments