Monday, July 15, 2024
HomeAstrologyRahu Ketu Ke Upay : राहु और केतु के प्रकोप से कैसे...

Rahu Ketu Ke Upay : राहु और केतु के प्रकोप से कैसे बचें ?

Rahu Ketu Ke Upay

हमारे जीवन में अचानक होने वाली घटनाओं के लिए शनि, राहु और केतु जिम्मेदार हैं। यदि राहु ग्रह अपने प्रभाव में काला जादू, तंत्र, टोना, डरावने सपने, दुर्घटना आदि का कारण बनता है, तो केतु रात की नींद में खलल डालता है और अचानक धोखे और धन और संपत्ति की हानि का शिकार हो जाता है। ऐसे में आइए जानते हैं इससे बचने के लिए लाल किताब के अचूक उपाय।

Rahu Ketu Ke Upay

  • राहु के उपाय राहु ससुराल पक्ष का कारक है, ससुराल पक्ष को परेशान नहीं करना चाहिए।
  • सिर पर चोटी रखना, माथे पर चंदन का तिलक लगाना, भोजन कक्ष में भोजन करना राहु का उपाय है।
  • घर में चांदी का ठोस हाथी रखा जा सकता है। सरस्वती की पूजा करें। उपाय गुरु। संयुक्त परिवार में रहते हैं।
  • बहते पानी में कोयला डालें। गोमेद को मध्यमा अंगुली में धारण करें। चांदी का चौकोर टुकड़ा अपने पास रखें।
  • केतु का उपाय : संतान केतु है। इसलिए अपने बच्चों के साथ अच्छे संबंध बनाए रखें।
  • गणेश जी की पूजा करें। कुत्ते को रोटी खिलाएं। अपने कान छिदवाओ ​​और एक कुत्ता पालो।
  • काले और सफेद कंबल का दान करें। केसर का तिलक लगाएं। हनुमान मंदिर में झंडा दान करें। घर में झंडा फहराएं।
  • राहु और केतु : राहु और केतु ग्रहों के लिए काली गाय का घी और कस्तूरी इत्र का प्रयोग किया जा सकता है।
  • यदि कस्तूरी इत्र उपलब्ध नहीं है तो केसर का उपयोग किया जा सकता है।
  • इसके अलावा घर में रोजाना कपूर जलाएं या फिर गुड़-घी मिलाकर मोमबत्ती पर जलाएं। घर के शौचालय को साफ रखें।

Rahu Ketu Ke Upay-कुंडली में राहु या केतु का प्रत्येक भोजन पर अलग-अलग प्रभाव पड़ता है।

  • यदि आपकी कुंडली के पहले घर में राहु और सप्तम में केतु हो तो चांदी की एक ठोस गोली अपने पास रखें।

  • दूसरे भाव में राहु और अष्टम में केतु हो तो दो या अधिक रंगों का कंबल दान करें।
  • यदि आपकी कुंडली के तीसरे भाव में राहु और नवम भाव में केतु हो तो सोना धारण करें। बाएं हाथ के पिंकी में सोने की अंगूठी पहनें या चने की दाल को बहते पानी में फेंक दें।
  • यदि आपकी कुंडली के चौथे भाव में राहु और दशम भाव में केतु हो तो चांदी के एक डिब्बे में शहद भरकर घर के बाहर जमीन पर दबा दें।
  • यदि आपकी कुंडली के पंचम भाव में राहु और एकादश भाव में केतु हो तो चांदी का ठोस हाथी घर में रखें।
  • यदि आपकी कुंडली के छठे भाव में राहु और बारहवें भाव में केतु हो तो बहन की सेवा करें, ताजे फूल अपने पास रखें और कुत्ता पालें।
  • यदि आपकी कुंडली में सप्तम भाव में राहु और प्रथम भाव में केतु हो तो लोहे की गोली को लाल रंग से रंगकर अपने पास रखें। सलाह दी जाती है कि चांदी के डिब्बे में बहते पानी से भरें, उसमें चांदी का चौकोर टुकड़ा रखें और बक्सा को बंद करके घर में रखें। सुनिश्चित करें कि बॉक्स में पानी सूख न जाए।
  • यदि आपकी कुंडली के आठवें भाव में राहु और दूसरे भाव में केतु हो तो बहते पानी में 800 ग्राम के सिक्कों के आठ टुकड़े एक साथ बनाना अच्छा रहेगा।
  • यदि आपकी कुंडली के नवम भाव में राहु और तीसरे भाव में केतु हो तो चने की दाल को जल में प्रवाहित करें। चांदी की ईंटें बनाकर घर में रखें।
  • यदि आपकी कुंडली के दशम भाव में राहु और चतुर्थ भाव में केतु हो तो पीतल के पात्र में बहने वाली नदी या नहर का जल घर में रखना चाहिए। यदि इस पर चांदी का आवरण हो तो उत्तम है।
  • यदि आपकी कुंडली के एकादश में राहु और पंचम भाव में केतु हो तो 400 ग्राम के सिक्के के 10 टुकड़े बहते पानी में एक साथ प्रवाहित करना चाहिए। इसके अलावा 43 दिन तक गाजर या मूली लेकर सुबह मंदिर आदि में दान करें।
  • यदि आपकी कुंडली के बारहवें भाव में राहु और छठे भाव में केतु हो तो सौंफ या खंडा से भरा लाल रंग का बोरे के आकार का थैला बनाकर शयन कक्ष में रख दें। कपड़ा चमकदार नहीं होना चाहिए। केतु के लिए सोने के आभूषण पहनना अच्छा रहेगा।

Rahu Ketu Ke Upay आप जान ही चूके है और जानने के लिए हमसे जुड़े रहे | 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments