Saturday, May 25, 2024
HomeDevi DevtaMahabharat: Ashwatthama Is Alive or Not With 100% Proof| Where is Ashwatthama...

Mahabharat: Ashwatthama Is Alive or Not With 100% Proof| Where is Ashwatthama ??

Read About Ashwatthama Full In Hindi: अश्वत्थामा के बारे में जाने वह भी हिंदी|

महाभारत पुराण के अनुसार अश्वत्थामा को श्राप मिला और वह अभी भी जिंदा है| According to Mahabharat Ashwatthama is Still Alive. Shri Krishna Give Him Curse. 

अश्वत्थामा कौन थे? (Who Is Ashwatthama)

अश्वत्थामा का जन्म महाभारत काल में हुआ था। द्वापरयुग महान परिवर्तन और उथल-पुथल का समय था। उनकी गिनती उस दौर के सर्वश्रेष्ठ योद्धाओं में होती थी। अश्वत्थामा गुरु द्रोणाचार्य के पुत्र और राजगुरु कृपाचार्य के भतीजे थे, वे एक महान ऋषि और योगी थे। द्रोणाचार्य ने कौरवों और पांडवों को शस्त्र चलाने में कुशल बनाया था| गुरु द्रोण ने महाभारत युद्ध के दौरान कौरवों का समर्थन करने का फैसला किया क्योंकि वे हस्तिनापुर के राज्य के प्रति वफादार थे।

अपने पिता की तरह अश्वत्थामा भी शास्त्र और शस्त्र विद्या में कुशल थे। महाभारत के युद्ध के दौरान अश्वत्थामा तथा गुरु द्रोणाचार्य ने पांडवों की सेना को तोड़ दिया था। जब पांडव सेना निराश हो गई, तो श्री कृष्ण ने युधिष्ठिर को द्रोणाचार्य को मारने के लिए कूटनीति का सहारा लेने के लिए कहा।

इस योजना के तहत अश्वत्थामा को युद्ध के मैदान में मार दिया गया था। जब द्रोणाचार्य ने अश्वत्थामा की मृत्यु का सच जानना चाहा, तो युधिष्ठिर ने कहा कि ‘अश्वत्थामा हतो नरो वा कुंजारो वा’ (मुझे नहीं पता कि अश्वत्थामा नर था या हाथी)। यह सुनकर, गुरु द्रोण ने अपने शस्त्रों को त्याग दिया और युद्ध के मैदान में बैठ गए, और उस अवसर का लाभ उठाकर, पांचाल नरेश ने पुत्र धृष्टद्युम्न ने उनका वध कर दिया।

Mahabharat: Ashwatthama Is Alive

अश्वत्थामा को अपने पिता की मृत्यु के बाद बहुत दुख हुआ। महाभारत युद्ध के बाद, जब अश्वत्थामा ने अपने पिता की मृत्यु का बदला लेने के लिए पांडव पुत्रों को मार डाला और पांडव वंश के पूर्ण विनाश के लिए उत्तरा के गर्भ में पैदा हुए अभिमन्यु के पुत्र परीक्षित को मार डालना चाहा, तो भगवान श्री कृष्ण ने परीक्षित की रक्षा की और उसके दंड के रूप में अश्वत्थामा के मस्तक पर लगा मणि निकाल लिया, जिससे कारण उसके मस्तिष्क से खून बहने लगा।

श्रीकृष्ण ने उसे तब तक भटकते रहने का श्राप दीया जब तक श्री कृष्ण कल्कि रूप में अवतरित होकर कलयुग का अंत नहीं करते| कुछ स्थानीय लोगों के अनुसार, वे अपने माथे के घावों से खून बहने को रोकने के लिए हल्दी और तेल का भी उपयोग करते हैं।

पिता का अपमान : (Ashwatthama Father Insult)

जब गुरु द्रोण ने अपने पुत्र अश्वत्थामा की रोते हुए स्थिति देखी, तो उन्होंने खुद को दोषी महसूस किया और उसे दूध पिलाने के लिए एक गाय की तलाश में इधर-उधर भटकने लगे, लेकिन उन्हें एक भी गाय नहीं मिली। उसने सोचा कि अपने बचपन के मित्र राजा द्रुपद के पास जाकर उस से एक गाय मांगनी चाहिए क्योंकि जब भी दोनों गुरुकुल में साथ पढ़ा करते थे तब द्रुपद ने अपनी मित्रता को देखकर द्रोणाचार्य को अपना आधा राज्य देने का वचन दिया था|उन्हें लगा कि यह एक अच्छा विचार होगा। वह अपने पुत्र अश्वत्थामा के साथ राजा द्रुपद के दरबार में पहुंचे गए। 

जब वे राज दरबार में पहुंचे और द्रोणाचार्य ने अपने मित्र को उसका दिया वचन याद कराया तब द्रुपद ने  उसे यह कहा कि वह सब बचपन की बातें थी और वह उसे कुछ नहीं देगा परंतु वह एक ब्राह्मण है इसलिए वह उसे एक गाय दान में देगा| द्रुपद के दरबार मैं जब अश्वत्थामा ने अपने पिता का अपमान होते देखा तो उससे रहा नहीं गया परंतु वह कुछ कर भी नहीं सकता था, क्योंकि वह बालक था और दरबार में सभी एक से बढ़कर एक योद्धा थे|

अश्वत्थामा बने शिक्षक और राजा :(Ashwatthama Become A King And A Teacher)

अश्वत्थामा के साथ, द्रोण पांचाल राज्य को छोड़कर कुरु राज्य हस्तिनापुर में आए और कुरु कुमारों को शस्त्र और शास्त्र सिखाने लगे। अश्वत्थामा भी इस काम में अपने पिता की मदद करने लगे। वह कौरवों को शस्त्र चलाना सिखाते थे। बाद में द्रोण कौरवों के गुरु बने। उन्होंने अर्जुन को युद्ध विद्या में निपुण बनाया| कौरवों सहित पांडव आचार्य के प्रति इतने उदार थे कि उन्होंने द्रुपद का राज्य उनसे छीन लिया। द्रोण ने आधा राज्य राज्य द्रुपद को और आधा अश्वत्थामा को दिया।

अश्वत्थामा राज्य लेकर अहिछत्र को राजधानी बनाकर उत्तर पांचाल का राजा बना। द्रोण भारत के सर्वश्रेष्ठ शिक्षक थे और यह सब देखकर सभी के मन में उनके लिए इज्जत और बढ़ गई। कुरु राज्य में, उन्हें अन्य राजाओं से पूर्ण सम्मान प्राप्त था, इसलिए हस्तिनापुर राज्य के सभी लोगों  ने यह चाहा कि गुरु द्रोण हस्तिनापुर में ही रहे और हस्तिनापुर के राज दरबार में बैठे।

Read About Ashwatthama Full In Hindi: अश्वत्थामा के बारे में जाने वह भी हिंदी|

For More Updates Follow Us on Instagram

 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments