Saturday, May 25, 2024
HomeAstrologyVishnu Puran Full PDF In Hindi| Vishnu Puran Free Download 2022

Vishnu Puran Full PDF In Hindi| Vishnu Puran Free Download 2022

Vishnu Puran Full PDF In Hindi & Sanskrit:श्रीमद्भागवत महापुराण के अनुसार श्री हरि विष्णु को सर्वत्र माना जाता है श्री हरि विष्णु ने ही संसार की रचना की है  और वही इसके पालन करता है श्री हरि विष्णु ने धर्म की रक्षा के लिए अलग-अलग काल में अलग-अलग स्वरूप में अवतार लिया है|  मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के रूप में और माखन चोर श्री कृष्ण के रूप में, भगवान  नरसिंहगढ़ के रूप में और देवों को अमित पान कराने के लिए अप्सरा के रूप में साथ ही कई ग्रंथों और महा ग्रंथों में यह भी वर्णित है कि भगवान श्री हरि विष्णु  कलकी  रूप में अवतरित होंगे और कलयुग का अंत करेंगे| 

 

उन्हीं श्री हरि विष्णु के चरण कमलों को याद करते हुए हम आपके लिए लेकर आए हैं भगवान विष्णु की प्रिय विष्णु पुराण विष्णु पुराण एक महाकाव्य है जिसके द्वारा आप अपने सभी मनोकामनाएं पूर्ण कर सकते हैं विष्णु पुराण के पाठ करने से आपको सभी दुख दर्द से परेशानियों से मुक्ति मिलती है एवं श्री हरि विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त होता है| तो आइए भगवान श्री हरि विष्णु को याद करते हुए हम  यह महाकाव्य प्रारंभ करें|

Vishnu Puran Full PDF Free Download

विष्णु पुराण फ्री डाउनलोड इन हिंदी

Vishnu Puran Hindi Free Dwonload

Vishnu Puran Full In Hindi & Sanskrit

FAQ For Vishnu Puran

विष्णु चालीसा के पाठ करने के लाभ? (Benifits Of Vishnu Puran)

 विष्णु चालीसा के पाठ करने से श्री हरि विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त होता है श्री हरि विष्णु प्रसन्न होते हैं| विष्णु चालीसा श्री हरि विष्णु के प्रमुख ग्रंथों में से एक है  इस चालीसा से आपको श्री हरि विष्णु के विराट स्वरूप का अनुभव होता है श्री हरि विष्णु का नाम लेने से मरते व्यक्ति को परमधाम  प्राप्त हो जाता है जीवित व्यक्ति के सभी रोग दूर हो जाते हैं|  विष्णु चालीसा के पाठ करने से घर में सुख शांति एव सकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव होता है घर का माहौल खुशियों भरा हो जाता है धन दौलत की प्राप्ति होती है| 

विष्णु पुराण का पाठ क्यों करना चाहिए और उसकी विधि क्या है?

(Vishnu Puran Reading Guide and why should we read Vishnu Puran)

श्री हरि विष्णु इस संसार के रचयिता माने जाते हैं| श्री हरि विष्णु के प्रसन्न रहने से हमें बहुत लाभ मिलता है, श्री हरि विष्णु का आशीर्वाद मिलता है ,आशीर्वाद  से हम अपने सभी कष्टों से मुक्ति  पाते हैं’ और भगवानविष्णु के बनाए संसार में  जीवन और मृत्यु के चक्र से बाहर निकल कर श्री हरि विष्णु के परमधाम बैकुंठ धाम को प्राप्त करते हैं| श्री हरि के नजदीक जाते हैं,और श्री हरि विष्णु के चतुर्भुज रूप को देखने का सौभाग्य प्राप्त करते हैं? 

विधि

विष्णु पुराण के पाठ करने के लिए एक आसन पर विराजित होकर श्री हरि विष्णु के चरणों का ध्यान करते हुए भगवान विष्णु से यह प्रार्थना करनी है कि “हे प्रभु मैं आपके इस महा ग्रंथ को प्रारंभ करने जा रहा हूं तो आप मुझे इसे विराम करने की शक्ति दे मेरी जो भी समस्याएं हैं उन्हें पूरा करने की शक्ति दें तथा मेरे घर परिवार पर अपनी कृपा दृष्टि बनाए रखें ”

अगर आप पहली बार पाठ करते  हैं तो कोई समय सीमा निर्धारित ना करें भगवान श्री हरि विष्णु से पहले ही प्रार्थना कर ले कि “भगवान जितने समय में मुझसे होगा उतने समय मैं पाठ करके विष्णु पुराण को विराम करूंगा” एवं भगवान विष्णु को प्रणाम करके  विष्णु पुराण के पाठ करना चालू करें याद रखें कभी भी 2  स्कंध पूरा होने पर उठे ना  या तो 1 स्कंध पूरा करें या फिर 3 स्कंध पूरा करें 3 से  ज्यादा कर सकते हैं पर 2 स्कंध नहीं|

 

हम आशा करते हैं कि भगवान श्री हरि विष्णु का आशीर्वाद आप सभी को प्राप्त हो तथा आप सभी के घर परिवार में सुख शांति और समृद्धि बनी रहे| 

और रोचक और लाभदायी वास्तु टिप्स , एस्ट्रोलॉजी से जुडी बातें और कोई भी व्यापार,प्रेम समंध उन सभी को पूरा करने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे 

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments